IndiaPoetry

[Poetry] कुछ लफ्ज़ .. दिल से

हल्की ठण्ड लिए हवाएं धीमी रफ्तार में,
In the slow cold breeze traveling in slow speed..
मानो कह रही हो कुछ बातें कान में..
As if whispering something into the ears..
मनोरम इस रात की मद्धिम रोशनी में..
In this pleasant night filled with medium light..
कुछ दूर बजते शादी के उस संगीत में..
Wedding music of a place nearby..
कवि मन रम सा गया है इस माहौल में..
Poetic soul seems to be deeply engrossed in it..
छत पर टहलते, हल्के से गीत गुनगुनाते..
Walking on the terrace, muttering songs slowly..
वो दूर आसमाँ में
He is observing in the sky..
बारात की आतिशबाजी की चमक..
Lights and shine of the sky crackers from the wedding baarat..
तो दूसरी ओर शांत चित्त
And on the other hand, calmly
खड़े पेड़ और सुहानी सी फूलों की महक..
the standing trees and the pleasant odor of the flowers..
मन को सकून देते इन पलों में..
These moments giving relief to the soul..
रूह को ताजा हवाओं से भर के..
And filling the soul with fresh air..
कवि मन कुछ कुछ व्याकुल सा है..
Poetic soul is somehow not calm..
प्रकृति के इन नजारो का
बखान करने को कुछ तत्पर सा है..
Eager to express the scene of the nature
in words..
हाथों में कलम के बजाए स्मार्टफोन लिए..
With a smartphone in hands instead of a pen..
कर रहा है व्याख्या “कवि मन” की-पैड से..
Is narrating what is going on in the poetic soul..
युग आज भले ही डिजिटल हो गया हो, पर..
The time has gone digital.. may be..
अहसास फिर अहसास हैं, कोई प्रोग्राम नहीं..
Emotions are emotions, not a computer program..
ये भावनाएं और अहसास जब दिल से उमड़ते हैं..
When these emotions and feelings arose from the heart..
काव्य के ज्ञान से अनभिज्ञ भी कवि बन जाते है..
Then, people devoid of poetic talent, also become poets..
[Note: This poetry originally written on
22nd November 2019 10:58PM IST by Ankit Singh Gehlot]

Comment here