[Poetry] सर्द रात और रोशन जहान

Poetry: सर्द रात और रोशन जहान Written by: अंकित सिंह गहलोत सर्द रात में छत पर टहलते हुए.. गर्म कपड़ो से पूरी तरह लैस हुए.. उसकी निगाहें.. बरबस.. दुर ए

Read More

[Poetry] कुछ लफ्ज़ .. दिल से

हल्की ठण्ड लिए हवाएं धीमी रफ्तार में, In the slow cold breeze traveling in slow speed.. मानो कह रही हो कुछ बातें कान में.. As if whispering something

Read More

आज मेरे ख्वाबों ने फिर से साजिश की…

आज मेरे ख्वाबों ने फिर से साजिश की।तुम्हे ख्वाबों में फिर बुलाने की कोशिश की।तुम तो फैसला कर चुके हो कब का, न लौटने का।पर दिल को शायद अब भी इंतजार है

Read More